vaastu consultant for factory

वास्तु: प्राचीन काल में बड़े-बड़े भवन, राजमहल, मंदिर, विद्यालय, तालाब, बगीचे आदि से लेकर सामान्य निवास का निर्माण भी शास्त्रों में वर्णित स्थापत्य कला और वास्तुशिल्प के सिद्धांतों के अनुसार किया जाता था।

वास्तु की आवश्यकता

धीरे-धीरे जनसंख्या की अत्यधिक वृद्धि से भूखंडों की कमी होने लगी। इसके साथ ही मनुष्य प्राणियों में सर्वोपरि होने के कारण भी सृष्टि के नियमों की अवहेलना करने लगा है। जिसका प्रभाव मनुष्य के जीवन में विपरीत पड़ता है। घर में लगातार किसी का बीमार होना, अथक प्रयासों के बावजूद भी आर्थिक रूप से सफल ना होना, छोटी-छोटी बातों पर लड़ाई झगड़ों का होना, संतान सुख ना मिलना अस्थिरता, दुखी, तनावग्रस्त होना आदि किसी ना किसी समस्या का सामना आज के समय में आप सभी को करना पड़ता है। वास्तु शास्त्र के द्वारा हम इन समस्याओं को काफी हद तक कम या समाप्त कर सकते हैं। जिससे जीवन में मानसिक शांति, स्वास्थ्य, प्रेम,धन आदि लाभों को प्राप्त करके हम सुखी और संपन्न बन सकते हैं।

आने वाले नव वर्ष के उपलक्ष में हम आपको कुछ ऐसे विशेष सुझाव देने जा रहे हैं जो वास्तु शास्त्र के नियमों के अनुसार हैं। हम आशा करते हैं कि आप इन सुझावों से अवश्य लाभान्वित होंगे और सौभाग्य को निश्चित रूप से आमंत्रित करेंगे। अगर आप किसी भी प्रकार की वास्तु की जानकारी चाहिए तो आप हमारी वेबसाइट Mahavaastushastra.com visit कर सकते है। और किसी भी प्रकार की वास्तु सेवाओ हमारे वास्तु सलाहकार (Vaastu Consultant) Sunil Mehtani (9810105727) से सम्पर्क कर सकते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.